मुँह में कैविटी को कैसे निकालें -How To Remove Cavity From Teeth In Hindi 

आपको बता दें की कैविटी मुंह में पैदा होने वाली एक बहुत ही बड़ी समस्या है जिसको की अगर हम छोटी-छोटी टिप्स या फिर उनके उपाय का ध्यान रखें तो उनसे आसानी से बचा जा सकता है।

आजकल के बच्चे अपनी डाइट का बिलकुल भी ध्यान नही रखते है और उनको जिस किसी भी चीज़ में स्वाद आने लगता है वो उसे खाना पसंद करते है फिर चाहे वो चीज़ उनकी सेहत और उनके दांतों के लिए सही है फिर नही।

आपको बता दें की बच्चे हो या फिर जवान सबको ज़्यादातर मीठी चीज़े खाना बहुत ज्यादा पसंद होता है और ऐसे चीजों का सेवन करके भी कई लोग आपने दांतों की अच्छे से सफाई नही करते है जिसकी वजह से उनके दांतों में कीड़ा लगने लग जाता है।

cavity remedies at home

दरअसल आपको बता दें की हमारे मुंह में जो सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण घटक जो होता है वो होता है लार यानि की सलाइवा जिसकी वजह से हमारे मुंह के जरिए होने वाले सारे काम एकदम सही तरीके से होते है और इससे आपका मुंह भी एकदम स्वस्थ रहता है।

आपको बता दें की सलाइवा में कई तरह के ऐसे तत्व भी मौजूद होते है जो की हमारे मुंह की देखरेख करते रहते है जैसे की मिनरल्स, फ़ास्फ़रोस और कैल्शियम जैसी कुछ बहुत जरुरी घटक और आपको बता दें की सलीवा ही हमारे मुंह टूथ को अनेक तरह के जरुरी पोषक तत्वों से हमको मुहैया करवाता है और हमारे टूथ को सडन की समस्या से भी बचाता है।

जिसकी वजह से हमारे दांतों को भी नियमित रूप से पोषक तत्वों की समय के अनुसार आपूर्ति होती रहती है और वो एकदम सही से काम करते रहते है।

आपको बता दें की उसमे सालो तक लार की वजह से टूथ को री मिनेरालिज़े होने में आपको मदद मिलती रहती है और अगर हम कुछ भी तरह का एसिडिक खाते है तो उस से पड़ने वाले कुप्रभावो से हमारी सलीवा ही होती है जो की हमे बचाती है।

लेकिन आपको बता दें की आपको किसी कारणवश अगर लार को बनने की दर में कमी आती है तो आपको समस्या भी हो सकती है।

दांतों में सडन का कारण (Causes Of Tooth Decay In Hindi)

आपको बता दें की दांतों में सडन की समस्या एक बहुत ही आप समस्या है लेकिन आपको बता दें की यह हमारे मुंह के अन्दर होती है और किसी को दिखाई भी नही देती है और इसीलिए आज इसीलिए हम इसे नज़र अंदाज़ करते जाते है।

daanton mein cavity ka karan

दांतों की सडन के मुख्य तौर से 3 प्रमुख कारण होते है (Three Main Reasons For The Tooth Decay) :-

  1. मुख में मौजूद बैक्टीरिया (Bacteria present)

चाहे कोई कितनी भी बार सफाई कर लें लेकिन हर किसी के मुह में बैक्टीरिया होते ही हैं।

परन्तु हम आपको अपने मुँह की सफाई कितने अच्छे तरीके से करते है यह बात तय करती है की बैक्टीरिया की तादात कम होगी या फिर इसके विपरीत बढ़ेगी और अगर बैक्टीरिया की तादात बढ़ेगी तो क्या उनके लिए सडन को पैदा करने वाले करक मौजूद है।

आपको बता दें की जैसे ही आप खान पान को बंद कर देते है तो ऐसे में बैक्टीरिया अपना काम करना शुरू कर देते है और वो चीज़ आपके दांतों पर एक तरह से एक सफ़ेद परत बनता है जिसे हम प्लाक कहते है।

यही प्लाक बैक्टीरिया का घर होता है और अगर आप नियमित तौर से दो समय ब्रश करते है तो इसे बनने से आसानी से रोका जा सकता है। आपको बता दें की बैक्टीरिया को एसिड में बनाने के लिए कार्बोहायड्रेट और शक्कर की जरुरत होती है जिससे की आपके दांतों में सडन होती है।

2. खान पान (Eating Habits)

आपको बता दें की वह खास पदार्थ जिसमे की शक्कर और कार्बोहायड्रेट की मात्रा बहुत ज्यादा अधिक होती है उससे आपको दातों की सडन होने का खतरा बहुत ज्यादा रहता है और अगर वो खास पदार्थ चिपचिपा हों जैसे की टॉफी, पोटैटो चिप्स या फिर मिठाई तो फिर उससे आपके दांतों में सडन का खतरा भी बहुत ज्यादा रहता है।

3. दांतों की सफाई और उनकी बनावट (Dental Cleaning And Their Texture)

आपको बता दें की अगर आप अपने दांतों की ठीक तरह की सफाई नही करते है तो इससे आप खुद अपने आप खुद सडन को न्योता देते हैं।

आपको रोजाना अपने दांतों को दो वक़्त साफ़ करना चाहिए। अगर आप हर चीज़े करते है तो ऐसा करने से आप आपने मुंह में मौजूद बैक्टीरिया की बढ़त को काफी हद तक कम कर सकते है और इसके साथ ही साथ आप फसे हुए पदार्थ को भी साफ़ कर सकते है।

आपको बता दें की आपको अपने दांतों को साफ़ करने के लिए सही तरीके से ब्रश करना, फ्लॉस करना या फिर माउथवाश का उपयोग भी कर सकते है।

दांतों के सडन के लक्षण (Symptoms Of Tooth Decay In Hindi)

आपको बता दें की दांतों की सडन का सबसे पहला लक्षण यह है की दांतों की उपरी सतह ( इनेमल ) पर भूरा सा दाग लग जाता है।

जब धीरे-धीरे यह दाग बड़ा होने लग जाता है तो यह एक बड़े से छेद का रूप धारण कर लेता है और फिर उस छेद वाली जगह पर खाना फसना शुरू हो जाता है और उस खाने के फसने से सडन की प्रक्रिया बहुत तेज़ हो जाती है और उसके साथ ही साथ आपके दन्त का छेद भी बड़ा होने लग जाता है।

toothcavity

जब धीरे-धीरे यह छेद बड़ा होने लग जाता है और अंदरूनी सतह यनि की डेंटिन में पहुँच जाता है तब हमे ठंडे या फिर मीठे से बहुत कनकनाहट होने लगती है।

जब सडन इससे भी ज्यादा अन्दर चला जाता है तो तब वह पल्प यनि दांतों की नसों तक पहुँच जाता है तो इससे वो इसे संक्रमित कर देता है और तब हमारे दांतों में बहत ज्यादा दर्द होने लग जाता है।

दांतों में कैविटी कैसे लगती है (How Cavity Is formed In Teeth In Hindi)

दांतों में कैविटी लगने काएक जो सबसे मुख्य कारण होता है और वो है लापरवाही मगर इसके इसके अलावा ओर भी बहुत सारे कारण है जैसे की :

जैसा की आपको पता होगा की आगर आप कुछ खाते है  तो उसके कुछ आहार आपके दांतों में फस जाते है जिसके कारण उनपर फिर बैक्टीरिया अपना काम करना शुरू कर देते है।

आपको बता दें की यह बैक्टीरिया जहरीले पदार्थ और एसिड उत्पन्न करने का कार्य करते है जिससे की प्लाक यानी आपके दांतों में पीलापन लगना शुरू हो जाता है जो की आपके दांतों पर एक परत सी बना देता है।

आपको बता दें की यह एसिड आपके दांतों के बहार के इनेमल पर अकर्मण करता है और उसका नशा करता है और फिर अन्दर के नरम भाग जो की एसिड में घुल जाते है।

इन्ही कार्यो का परिणाम है की आपके दांतों में कैविटी लग जाती है।

आपको बता दें की आगर आपके दांतों की सफाई ठीक ढंग से न की जाए तो आपके दांतों में प्लाक और मैल की एक परत सी बन जाती है जिनमे की बैक्टीरिया का विकास होता है और उसी से निर्माण किए हुए एसिड से कैविटी उपन्न होती है।

कैविटी से छुटकारा पाएं इन घरेलु उपायों से(Get rid of cavity with these home remedies):

हम आपको कुछ ऐसे घरेलु उपायों के बारे में बताने जा रहे है जिनको अपनाने के बाद आप आसानी से अपनी कैविटी की समस्या से छुटकारा पा सकते है। तो चलिए जानते है कैविटी से छुटकारा दिलवाने वाले उपायों के बारें में।

नमक (Salt)

आपको बता दें की नमक में मौजूद एंटीसेप्टिक और एंटीबायोटिक गुणों के कारण यह कैविटी के इलाज लिए भी इस्तेमाल किया जाता है।

नमक आपके दर्द और सुजन को कम करने के लिए किसी भी प्रकार के संक्रमण और मुंह में बैक्टीरिया की वृद्धि को रोकने में भी आपकी मदद करता है।

इसके लिए सबसे पहले आपको एक चम्मच को नमक के गर्म पानी में लेना है और फिर आपको इस पानी को अपने मुंह में लेकर इससे कुल्ला करना है।

आपको यह तब तक करना है जब तक की आपकी समस्या दूर न हो जाएं और आपको इन उपायों को कम से कम दिन में तीन से चार बार करना है।

cavity removal by salt

इसके अलावा आपको आधा चम्मच नमक, थोडा सा सरसों का तेल और थोडा सा निम्बू के रस को मिलकर एक पेस्ट सा बनाना है।

इस पेस्ट से आपको कुछ मिनटों तक अपने मसुडो पर मसाज करनी है और बैक्टीरिया को मरने के लिए आपको इस उपाय को कुछ दिनों के लिए कम से कम दो बार करना है।

आंवला (Amla)

क्या आपको पता है की आंवला जैसी जड़ी-बूटी भी कैविटी के लिए बहुत ज्यादा मददगार सिद्ध होती है।

आंवला में आपको भरपूर मात्रा में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट और विटामिन सी के कारण यह बैक्टीरिया और संक्रमण से लड़ने में आपकी मदद करती है।

amla se karein cavity ka ilaj

यह एक संयोगी ऊतक है जो की विकास को बहुत ज्यादा बढ़ावा देती है और यह आपके मसुडो के लिए भी बहुत ज्यादा लाभकारी होती है और इसके साथ ही साथ यह आपके मुंह को साफ़ रखने और आपको बदबूदार सांस से छुटकारा पाने में भी आपकी मदद करती है और इसीलिए आपको नियमित रूप ताज़ा आंवलो का सेवन करना चाहिए। इसको आपको आधा गिलास पानी के साथ आधा चम्मच आंवला पाउडर को नियमित रूप से लेना चाहिए।

लहसुन (Garlic)

आपको बता दें की लहसुन में एंटी बैक्टीरियल के साथ-साथ एंटीबायोटिग गुणों के समृद्ध होने के कारण लहसुन आपके दांतों को टूटने और कैविटी की समस्या को दूर करने में आपकी मदद करता है।

यह आपको दर्द से राहत दिलवाने और आपके स्वस्थ मसुडो और स्वस्थ दांतों के लिए भी यह बहुत अच्छा होता है।

danto-se-cavity-lahsun-hataye

आपको 3 से 4 लहसुन की कली को कुचलकर और फिर उसमे 1/4 चम्मच सेंधा नमक को मिलाकर उसका एक अच्छा सा पेस्ट सा बना लेना है और फिर उसको अपने संक्रमित दांत पर लगाकर उसको 10 मिनट के लिए छोड़ देना है।

आप कैविटी को कम करने के लिए इस उपाय को केवल कुछ दिनों के लिए दिन में दो बार करें।

लौंग (Cloves)

आपको बता दें की लौंग आपकी कैविटी के साथ-साथ किसी भी प्रकार की दांतों से जुडी हुई समस्या के लिए एक रामबाण इलाज के जैसा साबित होता है।

लौंग में एनाल्‍जेसिक, एंटी-इंफ्लेमेंटरी और एंटी-बैक्‍ट‍ीरियल के गुणों की मौजूदगी होने के कारण लौंग आपके दर्द को कम करने में और कैविटी को फेलने से रोकता है।

Cloves (spice) And Wooden Spoon Close-up Food Background

समस्या होने पर आप इसको 1/4 चम्मच तेल में कम से कम 2 से 3 बूँद लौंग के तेल को मिला लें और फिर आप इस मिश्रण को रात में सोने से पहले कॉटन बॉल में लेकर इसको अपने दांतों में लगा लें।

हल्दी (Turmeric)

आपको बता दें की हल्दी को आयुर्वेद में एक कैविटी के दर्द से राहत दिलाने के लिए प्रयोग में किया जाता है।

आपको बता दें की इसमें मौजूद एंटी-बैक्‍टीरियल गुणों के साथ-साथ इसमें एंटी-इंफ्लेमेंटरी के गुण भी मौजूद होते है जो की आपके मसुडो को स्वस्थ रखने के साथ साथ बैक्‍टीरियल संक्रमण के कारण आपके दांतों को गिरने की समस्या को भी रोकता है।

आप अपने प्रभावित दांत पर थोडा-सा हल्दी का पाउडर लगा लें और फिर इसको कुछ देर के लें छोड़ दें और फिर बाद में गुनगुने पानी से आप अच्छे से कुल्ला कर लें।

आयल पुडिंग (Oil Pudding)

आपको बता दें की आयल पुलिंग एक बहुत ही पुराना नुस्का है जो की आपको कैविटी से राहत दिलाने में कम करता है और इसके साथ ही साथ आपके मसुडो से खून का बहना और आपकी सांस की बदबू को भी यह दूर भगाता है।

इसके साथ ही साथ यह आपके दन्त की समस्यओं के अलग-अलग भिन-भिन प्रकार के लिए जिम्मेदार हानिकारक बैक्टीरिया को मुंह से साफ़ करने में आपकी मदद करता है।

Oil-Pulling for cavity

इसके लिए आपको तिल के तेल की एक चम्मच को आपको अपने मुंह में रखना है और उसको 20 मिनट तक अपने मुंह में रखना है फिर उसको थूकना है और साथ ही साथ आपको इस बात का खास ध्यान रखना है कीसको आपको निगलना बिलकुल भी नही है। इसके बाद आपको अपना मुंह गुनगुने पानी से धो लेना है।

रोगाणुरोधी का लाभ पाने के लिए आपको नमक के पानी का प्रयोग करना है।

फिर आपको हमेशा की तरह अपने दांतों को ब्रश करना है। इस उपाय को आपको रोजाना खली पेट करना है। आपको बता दें की यह उपाय बिलकुल आसानी से नारियल के तेल या फिर सूरजमुखी से भी किया जा सकता है।

नीम (Azadirachta Indica)

आपको बता दें की नीम भी कैविटी के इलाज के लिए एक अन्य लोकप्रिय उपाय है। नीम में एंटी-बैक्‍टीरियल के गुण मौजूद होते है जिसके कारण यह आपको बैक्टीरिया से होने वाली कैविटी से दूर रखने में आपकी मदद करता है। इसके अलावा यह आपके दांतों और मसुडो को स्वस्थ और मजबूत बनाने में आपकी मदद करता है।

आप अपने दांतों और मसुडो पर नीम के पत्तो के रस को रगड़ लें और फिर उसको कुछ मिनटों के लिए छोड़ दें और फिर हलके और गुनगुने पानी से कुल्ला कर लें।

आपको बता दें की आपको इस उपाय को दिन में एक या दो बार करना है और इसके अलावा आप नीम की स्टिक का इस्तेमाल अपने दांतों में ब्रश को करने के लिए भी कर सकते है।

मुलेठी (Muleti)

आपको बता दें की अमेरिकन सोसाइटी के जेनरल ऑफ़ नेचुरल प्रोडक्ट्स में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार बताएं तो मुलेठी आपके दांतों की जड़ को स्वस्थ रखने में आपकी बहुत ज्यादा मदद करती है।

मुलेठी में मौजूद एंटी-बैक्‍टीरियल के गुणों के कारण उनसे होने वाली कैविटी के विकास को रोकने में आपकी मदद करती है। इसके अलावा यह जड़ी-बूटी के प्‍लॉक को भी कम करने में आपकी मदद करती है।

आपको बता दें की आपको नियमित रूप से दांतों में ब्रूह करने के लिए मुलेठी की जड़ के पाउडर का प्रयोग करें। इसके अलावा अगर आप चाहे तो आप टूथ ब्रश करने के लिए भी आप मुलेठी की स्टिक का इस्तेमाल कर सकते है।

हींग (Asafoetida)

आपको बता दें की हींग भी आपकी कैविटी को दूर भगाने में बहुत ज्यादा कारगर सीध होता है।

इसके इस्तेमाल करने से न केवल आपके दांतों के कीड़े मरते है बल्कि यह आपकी कैविटी की समस्या को बिलकुल जड़ से निकाल देता है और आपको आराम पहुंचता है।

आपको बता दें की आपको हींग के पौडर को पानी में डालकर उसको उबालना है और फिर उसको थोडा सा ठंडा करके उससे कुल्ला करना है।

प्याज़ (Onion)

आपको याद दिला दें की जब भी आपके दांत में दर्द हो तो आपको हमेशा प्याज़ के छोटे-छोटे टुकदे करके उनको चबाना है या फिर अगर आप ये नही कर सकते है तो आप प्याज़ के बीजों को भी आप इस्तेमाल कर सकते है इससे आपके दांतों में कीड़े की समस्या भी आसानी से दूर हो जाएगी।

onion se karein cavity ka ilaj

अगर आप चाहे तो जहाँ पर या फिर जिस दांत में कीड़ा लगा हो उस पर उन प्याज़ के टुकडो को रख सकते है। इससे निकलने वाली लार को आपको अपने दांतों पर लगना है।

तो दोस्तों ये था हमारा आज का आर्टिकल How to remove cavity from teeth at home आशा है हमारे द्वारा दिए गए उपायों को करने के बाद आपके दांत की कैविटी ख़तम हो जाएगी अगर ना भी होतो आप डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं।

Amit Shrivastava
 

हैल्लो, मेरा नाम अमित अम्बरीष श्रीवास्तव है। मैं एक लेखक और एक ब्लॉगर हॅू और मुझे रचनात्मक लेखक बहुत पसंद है। मैंने 2013 में अपनी ब्लॉगिंग करियर की शुरूआत की थी, और कभी पीछे नहीं देखा। य​ह ब्लाग मैने स्वास्थ्य और तंदुस्र्स्ती से सम्बन्धित अपने विचार साझा करने के लिये बनाया है और मुझे आशा है कि आपको इसका कॉंटेंट पसंद आयेगा।

Click Here to Leave a Comment Below 0 comments

Leave a Reply:

CommentLuv badge